21/05/2020. P/64

हिन्दी/
///////
मै जाके एग्जाम रूम में अपने सीट गिनती करके बैठ गया। पर मेरे दिमाग में तो उस लडके के पीटने कि घटना चल रही थी। और दीमहे ये भी चल रहा था। कि अभी प्रिंसिपल आए और मेरी ठुकाई करेगा पीटने का डर नहीं था। मुझे डर इस बात का था कि स्कूल के स्टूडेंट के सामने पिटाई होगी। और सारे मज़े लेने जैसे कोई एग्जाम रूम में प्रवेश करता तो मुझे लगता प्रिंसिपल आ गया और कोई लड़का तो लगता मुझे ही बुलाने आया होगा। तभी टीचर ने एग्जाम रूम में प्रवेश किया और डायरेक्ट मुझे ही देख और बोला यहां आओ मेरी तो सांस रुक सी गई और धड़कन इतनी तेज हो गई की उसकी आवाज तेज सुनाई देने लगी मै टीचर के पास गया तो टीचर ने कहा ये बॉटल लो इसको फ्रीजर से भर लाओ मै गया वाटर लाकर टीचर को दिया। टीचर उस समय सीट अरेंजमेंट में लगे थे। कि किसको कहा बैठान है। थोड़ी देर में एग्जाम स्टार्ट हो गया प्रिंसिपल भी नहीं आया। लेकिन डर तो था। एग्जाम चल रहा था। मै प्रशनो के उत्तर देने लगा। उत्तर क्या देता वो तो मुझे आता नहीं था। लेकिन उत्तर में प्रशन का आधा भाग और जो थोड़ा बहुत आता था। लिख देता इसी तरह उत्तर होता था मेरा एग्जाम टाइम ख़तम हुआ उत्तर कॉपी जमा किया और बाहर आया बाहर आते ही मै तुरन्त होम में भागा बिना पीछे मूड और डायरेक्ट होम में रोका। राज सिंघ ने पूछा क्या हुआ शशिराज मैंने कहा कुछ नहीं फाइल देना था शिव सर को इसलिए भाग के आया ।









English translate/
////////////////////////////
मै जाके एग्जाम रूम में अपने सीट गिनती करके बैठ गया।  पर मेरे दिमाग में तो उस लडके के पीनिंग कि घटना चल रही थी।  और दीमहे ये भी चल रहा था।  कि अभी तक प्रिंसिपल आया था और मेरी ठुकाई करेगा पीनिंग का डर नहीं था।  मुझे डर इस बात का था कि स्कूल के स्टूडेंट के सामने पिटाई होगी।  और सभी मज़े लेने जैसे कोई एग्जाम रूम में प्रवेश करता है तो मुझे लगता है कि प्रिंसिपल आ गया और कोई लड़का तो लगता है मुझे ही बुलाने आया होगा।  केवल टीचर ने एग्जाम रूम में प्रवेश किया और डायरेक्ट मुझे ही देख और बोला यहाँ आओ मेरी तो साँस रुक सी गई और धड़कन इतनी तेज हो गई की उसकी आवाज तेज सुनाई देने लगी मै टीचर के पास गई तो टीचर ने कहा ये बॉरोवे इसको फ्रीजर  से भर लो मै गया पानी लाकर टीचर को दिया।  टीचर उस समय सीट अरेंजमेंट में लगे हुए थे।  कि किसको कहा बैठान है।  थोड़ा देर में एग्जाम ऑफ हो गया प्रिंसिपल भी नहीं आया।  लेकिन डर तो था।  एग्जाम चल रहा था।  मै प्रशनो के उत्तर देने लगा।  उत्तर क्या देता है तो मैं नहीं आता था।  लेकिन उत्तर में प्रशन का आधा हिस्सा और जो थोड़ा बहुत आता था।  लिख देता है इसी तरह उत्तर होता था मेरा एग्जाम टाइम ख़तम हुआ उत्तर कॉपी जमा किया और बाहर आकर ही मै तुरन्त घर में भागा बिना पीछे मूड और डायरेक्ट होम में रुक गया।  राज सिंघ ने पूछा कि क्या हुआ शशिराज ने कहा कि कुछ नहीं फाइल देना था शिव सर को इसलिए भाग के आया था।






Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट