20/05/2020. P/63

हिन्दी/
///////
६ वी कक्षा में तीन एग्जाम होते थे पहला त्रैमासिक, दूसरा अर्धवार्षिक, फाइनल सालाना,  त्रैमासिक एग्जाम स्टार्ट हों गया था।साइड में ही एग्जाम हाल रूम थे जो स्कूल का ही हिस्सा थे। लेकिन २०० मीटर ग्राउंड के पार था। जहा हम लोग नहीं जाते थे। क्योंकि वहा प्रिंसिपल ऑफिस और ११,१२ के छात्र पड़ते थे। ५ से लेकर ८ तक की अलग बिल्डिंग थी। एग्जाम के दिन सीट अरेंजमेंट देखा तो पता चला कि मेरा एग्जाम १२ वी वालो के साथ है। मै क्लास में गया देखने की कहा बैठना है। डेस्क ठीक ही लगा था। मै गिनती करके एग्जाम सीट पर बैठ गया। उस समय ३,४ ही छात्र आए थे। थोड़ी देर बाद मुझे टॉयलेट के लिए जाना पड़ा मै बाहर निकला और एक लडके से पूछा भाई टॉयलेट कहा है उसने बताया अगले कोने से लेफ्ट में पड़ेगा। मै गया टॉयलेट में घुस गया बिना देखे कि मेल टॉयलेट है। या फीमेल टॉयलेट मैं अन्दर गया अन्दर खड़े होकर रिफ्रेश होने का नहीं था। जबकि हमारे बिल्डिंग के टॉयलेट में था। मै रिफ्रेश हुआ और बाहर आ गया। एग्जाम स्टार्ट होने वाला था। तभी मैने देखा कि बाहर स्टूडेंट भीड़ लगा है। मैं भी देखने गया कि क्या हो रहा है। देख तो प्रिंसिपल एक स्टूडेंट की पिटाई कर रहा था। डंडा देख के लगता था प्रिंसिपल ने स्पेशल बनवाया है। करीब डेढ़ फुट लंबा डंडा जिसे तेल पिला पिला कर पाला था। मैंने एक लडके से पुछा भाई क्या हुआ तो उसने बताया कि गर्ल्स टॉयलेट में घुस गया था और गर्ल्स ने शिकायत की मैने पूछा गर्ल्स टॉयलेट कहा है। तो उसने बताया कोने से लेफ्ट वाला इतना सुनते ही समझ में आ गया कि टॉयलेट में खड़े होकर रिफ्रेश होने का क्यो नहीं था। और साथ ही प्रिंसिपल का डंडा मुझे पड़ता हुआ दिखाई देने लगा मै चुपचाप आकर अपनी सीट पर बैठ गया। और इंतेज़ार करने लगा कि थोड़ी देर में प्रिसिपल आयेगा और मेरी भी लेगा।









English translate/
////////////////////////////
 The 6th class consisted of three exams, the first quarterly, the second half-yearly, the final yearly, quarterly examinations started. The side itself had exam hall rooms which were part of the school.  But 200 meters was beyond the ground.  Where we did not go.  Because there used to be the principal office and 11,12 students.  There was a separate building from 5 to 4.  On the exam day, when I saw the seat arrangement, I came to know that my exam is with the 12th students.  I have to sit in class to see Gaya.  The desk was set right.  After counting, I sat on the exam seat.  At that time only 3,4 students came.  After a while, I had to go for the restroom. I got out and asked a boy, brother, he said that he told the toilet.  I entered the Gaya toilet without seeing that Mel was the toilet.  Or the female toilet, I went in and did not have to stand and refresh.  While in the toilet of our building.  I refreshed and came out.  The exam was about to start.  Then I saw that there was a crowd outside.  I also went to see what is happening.  See, the principal was beating a student.  After seeing the stick, the principal had made a special.  About a foot and a half feet long, which was reared after being fed with oil.  I asked a boy what happened to the brother, he told that the girls had entered the toilet and the girls complained that I asked the girls toilets.  So he told that the left-hander from the corner understood so much that why there was no reason to refresh by standing in the toilet.  And at the same time, the principal's stick started appearing to me. I came quietly and sat in my seat.  And started waiting that in a while the principal will come and take mine too.







Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट