01/05/2020. P/44

हिन्दी/
///////
अगले दिन का बड़ी बेसब्री से इंतजार था। जब फिर से बाहर की दुनिया की झलक देखने को मिलेगा। जो स्कूल था उसका टाइम 12:30 से 5 बजे  तक था। होम से ही भाईसाहब अपना राशन पानी लेकर चलते था। दो लीटर मिल्क और चीनी ये सब किचन से लेने और साथ चलने का काम रमेश भाईसाहब ने मुन्ना टाइम पास को से रखा था। अगले दिन मै सुबह से ही नहा के कपडे पहन के तैयार था। भाईसाहब 10 आए अपने टाइम पर सभी न्यू लड़कों का कपड़ा चेक किया फिर दोपहर खाना खाने के बाद तैयार रहने को कहा। होम में खाने का टाइम दोपहर 1 बजे और शाम 7 बजे था। खाना खाने के बाद भाईसाहब ने सभी को लाइन में लगाया गिनती की सभी लड़कों की फिर चार गार्ड साथ लिया और बाहर निकाला दो भाईसाहब चार गार्ड थे। ताकि कोई भाग न सके गेट से बाहर निकल कर लड़कों को लाइन में लग कर चलने को कहा लड़कों कि  हरकते कुछ इस प्रकार थी। कि कोई बीड़ी के टोट ढूंढ रहा है। तो कोई भागने के लिए अच्छी जगह की तलाशी में लगा है। लोग अपने दुकान और घरों से इस तरह हम देख रहे थे। कि कोई अजीब जानवर बाहर आया हो और रोड प्र चल कर बोल रहा हो आओ हम देखो। जिस रोड से भाई निकलते वो रोड साफ हो जाता क्योंकि बीड़ी के टौते और सिगरेट के टौटे के साथ माचिस के खोखे भी लड़के उठा लेते थे जिसकी वजह से रोड साफ नजर आती थी। स्कूल के गेट पर पहुंचकर फिर एक बार गिनती होती।








English translate/
////////////////////////////

 The next day was eagerly awaited.  When you will get a glimpse of the outside world again.  The time of school was from 12:30 am to 5 pm.  From home, brother used to carry his ration water.  Ramesh Bhaisahab had taken the Munna Time Pass from the kitchen to take two liters of milk and sugar from the kitchen.  The next day I was ready to take a shower in the morning.  Brother 10 came at his time, checked the clothes of all the new boys and then asked to be ready after having lunch.  Home time was 1 pm and 7 pm.  After having dinner, Brother-in-law put everyone in the line and counted all the boys with four guards and took out two brothers.  So that no one could run out of the gate, the boys were asked to walk in the line and the boys had to do something like this.  That someone is looking for bidi tots.  So someone is searching for a good place to run.  This is how we were seen by people from their shops and homes.  That some strange animal has come out and is walking along the road, let's see.  The road from which the brother came out would have been cleared because the boys used to pick up the kiosks of the matchbox with bidi tout and cigarette tote, which made the road clear.  It would be counted once upon reaching the school gate.







Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट