24/06/2020. P/93

हिन्दी/
///////
नरेला होम का एक और लडके कि स्टोरी बतात हूं आप लोग उस लडके के बारे में पड़ चुके होगे बीते हुए स्टोरी में उस लडके का नाम पप्पू था। ये वही लड़का था जिसका सिर फोड़ा था जब इंडिया और पाकिस्तान का T-२० फाइनल था तब ये पाकिस्तान को सपोर्ट कर रहा था जिसकी कारण सभी होम के लडके गुस्सा हो गए थे। और पप्पू का सिर फोड़ा था। पप्पू किचेन में काम करता था। स्टाफ लोगो के लिए स्पेशल रोटी बनाता और दाल फ्राई करता था। साथ ही स्टाफ का सामान रखता था होम एक केयर टेकर जिसका नाम हवाल सिंह था। वो पप्पू पर खूब विश्वास करता था। इतना विश्वास की जब पप्पू उसे खाना खिलाता तो वो उसे बाहर घूमने की इजाजत दे देता साथ ही अपनी साइकल चलाने को से देता था। एक दिन पप्पू ने स्पेशल रोटी और दाल फ्राई दिया हवाल सिंह को और साथ ही स्पेशल रोटी भी दिया। हवाल सिंह खाने लगे तब पप्पू ने कहा भाईसाहब आपका साइकल बाहर घूमने ले जाऊं तो हवाल सिंह ने हा बोल दिया और साइकल की चाभी उसे से दिया और और गए पर बोल दिया इसे जाने दो बाहर घूम कर आ जाएगा पप्पू गया हवाल सिंह का साइकल लेके हवाल सिंह ने खाना खा लिया और बहुत देर होगी तो हवाल सिंह ने कहा कि किधर रह गया। दो घंटे बीतने के बाद हवाल सिंह उसे ढूंढने गया। पूरा मार्केट ढूंढने के बाद भी पप्पू उसे नहीं मिला तो हवाल सिंह वापस आने लगा तो उसने अपनी साइकल कबाड़ी वाले के पास देखा कबाड़ी वाले के पास जाकर उसने पूछा कि ये साइकल मेरी है तो कबाड़ी वाले ने कहा ये साइकल उसने एक लडके से खरीदा ५०० रुपए में ये सुनकर हवाल सिंह सन्न रह गया।









English translate/
////////////////////////////
I tell you the story of another boy of Narela Home, you must have been about that boy, in the past story, that boy's name was Pappu.  This was the same boy whose head was blamed when India and Pakistan had a T-20 final, then he was supporting Pakistan due to which all the boys of the home became angry.  And Pappu was beheaded.  Pappu used to work in the kitchen.  The staff used to make special roti and fry lentils for the people.  Along with the staff, Home used to have a caretaker named Hawal Singh.  He believed in Pappu very much.  Believed so much that when Pappu used to feed him, he would allow him to roam outside as well as to ride his bicycle.  One day Pappu gave special roti and dal fry to Hawal Singh as well as special roti.  When Haval Singh started eating, Pappu said, brother, when I take your bicycle outside, Hawal Singh said yes and gave the key of the bicycle to him and went and said but let it go, Pappu will come out and take Haval Singh's bicycle.  Hawal Singh ate the food and it would be too late, so Hawal Singh said where was he left.  After two hours, Hawal Singh went to find him.  Even after finding the entire market, Pappu could not find him, so Hawal Singh started coming back, so he saw his bicycle near the scrap man, he went to the scrap man and asked if this bicycle is mine, then the scrap guy said that he bought this bike from a boy 500  Hawal Singh was shocked after hearing this in rupees.








Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट