06/06/2020. P/80

हिन्दी/
///////
त्रैमासिक परीक्षा आते - आते कुछ विद्यार्थी हमारी सेक्शन से चले गए थे दूसरे सेक्शन में जिसकी वजह से मेरी सेक्शन में ८५ विद्यार्थी ही बचे थे और मेरा रोल नंबर ७१ था। अलीपुर होम के दक्षिण में स्वामी श्रद्धा नन्द विश्वविद्यालय है। जिसके मैदान में झाड़ियां उगी रहती थी। जंगल की तरह जिसमे सर्प, गोह, बहुत अन्य प्रकार के जीव रहते थे। पूर्व में हाईवे है। दो लेन की साथ ही झाड़ियां ,उत्तर में जंगली झाड़ियां है जिम पेड़ और अन्य प्रकार के पौधे है। पश्चिम में अलीपुर पुलिस स्टेशन और गवर्नमेंट ब्वॉयज सीनियर सेकेंडरी स्कूल और अलीपुर गांव है। होम तीन ओर से पेड़ पौधों से घिरा है। अलीपुर पुलिस स्टेशन की तरफ़ से बहुत हल्का- हल्का दिखाई देता है। एक रात बहुत तेज बारिश हुई सुबह मै होम से स्कूल के लिए गेट से बाहर निकला करीब २० मीटर ही गया होगा कि मैंने देखा कि रोड के साइड में ही एक सर्प पड़ा है सर्प करीब सवा मीटर लंबा होगा सर्प सफेद कलर का था। सर्प उल्टा पढा था उसका पेट उपर था हिल भी नहीं रहा था। जीभ भी बाहर निकल रहा था। देखने से लग रहा था कि मर गया है मैंने स्कूल ड्रेस कोड का जूते पेहन रखा था। उसी से उसके पूछ पे पैर मारा सर्प तुरन्त सीधा जो गया। मै तो सीधा भागा होम के गेट पे रुका गेट में खड़े गार्ड को बताया वो डंडा लेकर आया सर्प वहा से भागा नहीं था। गार्ड ने सर्प को देखा तो उसने उसे नहीं मारा और उसे जाने दिया गार्ड ने बताया कि वो धमिन थी। उसे नहीं मारते उसे मारने पर अनहोनी होती है।









English translate/
////////////////////////////
By coming quarterly exam, some students had left our section, due to which in our section only 75 students were left in my section and my roll number was 41.  To the south of the Alipore Home is Swami Shraddha Nand University.  In which the bushes used to grow.  Like the forest in which snake, goh, and many other kinds of creatures lived.  To the east is the highway.  There are two lane bushes as well, in the north there are wild bushes, gym trees and other types of plants.  To the west is Alipore Police Station and Government Boys Senior Secondary School and Alipur Village.  The home is surrounded by tree plants on three sides.  From the Alipur Police Station, it looks very light.  One night it rained very hard, in the morning I came out of the gate from home to school, it must have been about 20 meters that I saw a snake lying on the side of the road, the snake would be about one and a quarter meters long.  The snake was read upside down, its stomach was up and it was not moving.  Tongue was also coming out.  It seemed from the dead that I had put the school dress code shoes on.  At his behest, the snake immediately went straight.  I ran straight to the gate of the home and told the guard standing in the gate that he came with the stick and the snake did not run away from there.  When the guard saw the snake, he did not hit her and let her go. The guard told that she was a bully.  Do not kill him, it is impossible to kill him.






Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट