22/06/2020. P/92

हिन्दी/
///////
स्टोरी में  एक कमिने को भूल ही गया था मै लेकिन उस कमिने ने खुद याद दिलाया फोन करके  और उस महान इंसान का नाम प्रदीप है प्रदीप नरेला में मेरे साथ था यू कहे की पड़ोसी यानी साइड कि कुटी का कुटी का नाम आज़ाद कुटी था। पोलियो के करण प्रदीप का एक हाथ ठीक से विकसित नहीं हुआ लेकिन फिर भी वो उस हाथ से काम कर लेता है। सकल से बिलकुल सरिफ लगता था लेकिन था बहुत शैतान दूसरों को परेशान और चीजे डबल करने मै उसे बड़ा ही आनन्द आता उसकी सबसे ख़तरनाक आदत थी जो तेरा है वो मेरा है और जो मेरा है वो पहले से ही मेरा है प्रदीप भी सभी बच्चो के साथ ट्रान्सफर होकर अलीपुर आया था। मै और प्रदीप दोनों ही अलीपुर में थे लेकिन अलग - अलग होम में थे नरेला होम में, मै और प्रदीप दोनों तम्बाकू खाया करते थे। लेकिन प्रदीप छुप - छुप के क्या करता था। और मै भी लेकिन मेरे पकड़े जाने पर में तो किसी न किसी तरह बच जाता था। लेकिन प्रदीप के पकड़ में आने पर उसकी पिटाई पक्की थी क्योंकि जयराम - मुन्ना टाइम पास किसी को छोड़ते नहीं थे। प्रदीप ने तो कई बार दो तीन कच्छे पहनता था ताकि चोट कम लगे। एक बार तो प्रदीप में पोछा लपेट लिया और उसके ऊपर पैन्ट पहन लिया ताकि बल्ले से कम चोट लगे प्रदीप के एक हाथ भले ही कमजोर था लेकिन इसकी हरकते खतरनाक होती थी होम के केयर टेकर प्रदीप को फारुख केहके बुलाते थे। प्रदीप को किचेन में काम करना पसंद था। आज के टाइम में प्रदीप से कोई सा भी खाना बनवा सकते हो लेकिन उसके चलकी से बचके।









English translate/
////////////////////////////
I had forgotten a bastard in the story, but that bastard reminded himself by calling and the name of that great man was Pradeep, Pradeep was with me in Narela.  Due to polio, one hand of Pradeep did not develop properly but still he works with that hand.  Gross seemed to be just Sarif, but he was very devil, he used to enjoy others and he had a lot of pleasure in doubling things. His most dangerous habit is yours and he is mine and he is already mine. Pradeep is also with all the children.  Came to Alipur via transfer.  Both Mae and Pradeep were in Alipur but they were in separate homes in Narela Home, both Mae and Pradeep used to eat tobacco.  But what did Pradeep do to hide.  And I too, but when I was caught, I somehow survived.  But when Pradeep was caught, he was beaten because Jayaram - Munna did not leave anyone with time pass.  Pradeep used to wear two to three pieces so that the injury would be less.  Once, Pradeep wrapped a mop and wore a pant over it so that one of Pradeep's hands was weak, but his movements were dangerous, he called Pradeep Kehke.  Pradeep loved working in the kitchen.  In today's time you can get Pradeep to cook any kind of food, but avoid his chawki






Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट