11/06/2020. P/85

हिन्दी/
///////
उस रात टीवी वाली घटना के बाद मुझे यकीन होने कि सच - मूच में कुछ तो है। कुछ दिनों बाद मै टीवी वाली बात भूल गया। लेकिन कुछ दिनों बाद मै उपर वाले रूम शास्त्री कुटी में सो रहा था। रात के करीब ३ बज रहे थे। मै टॉयलेट के लिए उठा टॉयलेट करके जब वापस सोने लगा तब छत से आवाज आने लगी किसी के कूदने की यू कहे तो जैसे कोई छत पर कूद रहा हो और डरने वाली बात ये थी कि छत के ताले की चाभी मेरे पास थी। जिसे मैंने आलमारी में रखा था। मेरे सिवाय कोई और मेरी अलमारी नहीं खोलता था। छत पर कूदने कि आवाज से में ही नहीं और भी लडके जग गए थे। सूरज, सन्नी , विकास वो दोनों अपने बेड से उठक मेरे पास आए और बोले भाई डर लग रहा है। उन्हें क्या पता कि मुझे तो उनसे ज्यादा डर लग रहा था। मैंने कहा कोई गार्ड होगा हम डराने की कोशिश कर रहा होगा। उसी समय लाईट भी चली गई। मैंने सूरज और विकास , सन्नी से कहा तीन चार लडको को और जगा और उनको बोला पीछे गार्ड होगा। उसे आवाज लगा सूरज ने पीछे पोस्ट पर आवाज लगाया लेकिन वहा पर कोई नहीं था। दूसरे पोस्ट पर भी कोई नहीं था सभी साइड मेन गेट पर थे। आधा घंटे के बाद धन सर आए और गेट खोला और बोले इतना जोर से कोई चिल्लाता है रात को मैंने कहा पीछे कोई गार्ड नहीं कहा थे आप लोग धन सर ने कहा गेट पर मीटिंग कर रहे थे मेंने कहा इतनी रात को तो गुस्से से बोले हा कर रहा था। हम लोग सुबह तक जगते रहे अगले दिन से एक गार्ड और नहीं आया। सायद रात में उसे कुछ दिख गया था।










English translate/
////////////////////////////
After the TV incident that night, I believe that there is something in the truth.  A few days later I forgot the TV thing.  But a few days later I was sleeping in the upstairs room Shastri Kuti.  It was almost 3 o'clock in the night.  When I woke up for the restroom, when I started sleeping, the sound started coming from the ceiling, when someone said that someone was jumping on the roof, and the fear was that I had the key to the roof lock.  The one I kept in the shelf.  No one except me opened my wardrobe.  No more boys were awakened by the sound of jumping on the roof.  Suraj, Sunny, Vikas, both of them got up from their beds and came to me and said brother is scared.  What did they know that I was more afraid of them.  I said there would be a guard trying to scare us.  At that time the light also went away.  I told Suraj and Vikas, Sunny, wake up three or four boys and told them there will be a guard behind.  She felt a voice, Suraj put a voice on the back post but there was no one there.  There was no one on the second post, all were on the side main gate.  After half an hour Dhan sir came and opened the gate and said that someone shouts so loudly. At night I said no guard was behind you. Dhan sir said that he was meeting at the gate.  was doing.  We kept awake till morning, from next day one guard did not come.  He saw something in the night.






Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट