04/06/2020. P/78

हिन्दी/
///////
मेरे स्कूल के पास से ही जी. टी. करनाल रोड गुजरती है उसी के साइड में दुकान है। खाने - पीने से लेकर कापी - किताब  सब चीज मिलता है। पास में ही स्वामी श्रद्धा नन्द कॉलेज भी है। और बस स्टैंड साथ ही गर्ल स्कूल भी है स्कूल की बाहर कि चार चीज फैमश थी। अग्रवाल के छोले भटुरे , मेरठ वाले की मिठाई, ओमकार के छोले कुल्च , शिव शक्ति की बुक स्टोर,  इसके अलावा बहुत सी और चीजे थी। अन्दर विलेज में नेट कैफे था। गेम सेंटर भी था। जहा गेम खेलने जाय करते थे। एक दिन मै स्कूल बंक करके बाहर घूम रहा था। मै बिस्किट खरीदने एक दुकान में गया जैसे ही मैंने दुकान वाले को देखा मेरी तो सिट्टी- पिट्टी गुम हो गई दुकानदार बिलकुल प्रिंसिपल जैसा था। दिल की धड़कन मशीन कि तरह फास्ट हो गई थी। बॉडी सुन्न सी हो गई थी। मैंने हिम्मत करके कहा एक बिस्किट देना प्रिंसिपल जैसे दिखने वाले व्यक्ति ने पैसे लिया और बिस्किट दिया में चुपचाप वहा से तेजी से निकला बाद में पता चला कि वो प्रिंसिपल का भाई था। उस समय मेरे स्कूल में दो न्यू बिल्डिंग बन रहे थे। दो मंजिले आधा काम हो चुका था। आधा काम चल रहा था। हमारा स्कूल कॉलेज की तरह हो चुका था। कोई प्राथना नहीं होती थी। दिन भर स्टूडेंट स्कूल में खेलते रहते थे। गिल्ली डंडा से लेकर कंचे , बॉल से एक दूसरे को मारना बास्केट बॉल ग्राउंड में बैट बॉल खेलते थे और ग्राउंड जो तालाब बना था। उसमे तत्थर मारना कोई अध्यापक आए तो भाग जाना अध्यापक के जाते ही दुबारा वहीं काम सुरु।










English translate/
////////////////////////////
G. from my school  There is a shop on the side of T. Karnal Road.  Everything from food to drink and copy is available.  There is also Swami Shraddha Nand College nearby.  And there is a bus stand as well as a girl school, that four things outside the school were famous.  There were many more things like Chhola Bhature of Aggarwal, sweets from Meerut, Om Chola Kulch, Shiva Shakti's book store.  There was a net cafe in the village.  There was also a game center.  Where used to go to play games.  One day I was walking outside doing school bunk.  I went to a shop to buy a biscuit. As soon as I saw the shopkeeper, my shopper was just like the principal.  The heartbeat was fastened like a machine.  The body had become numb.  I dare say that giving a biscuit, a person who looked like the principal took the money and in the biscuit diya quietly got out of there fast and later found out that he was the principal's brother.  At that time, two new buildings were being built in my school.  Half the work of two floors was done.  Half the work was going on.  Our school was like a college.  There was no prayer.  Students used to play in school all day long.  From Gilli Danda to the marbles, hitting each other with the ball, he used to play bat ball in the basketball ball ground and the ground which was made a pond.  If a teacher comes to kill you immediately, then run away as soon as the teacher leaves.






Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट