28/04/2020. P/41

हिन्दी/
जिस समय हमारे कुटी का कैप्टन चेंज हुआ अपना राज स्टार्ट हुआ उस समय बाकी कुटी का ये हाल था शास्त्री कुटी का कैप्टन मुन्ना टाइम पास , जवाहर का फैसल, शिवाजी का विजय ,गौतम का विशाल, सुभाष का कयूम, बाकी का याद ही नहीं है उस समय सबसे ज्यादा पिटाई शास्त्री कुटी वालो को पड़ती थी उनका कैप्टन मुन्ना और उसका भाई जयराम था जयराम ने बिजली वाली तार का हंटर बना रखा था उससे मारता था बच्चो को जो पूरा चमड़ी तक छिल लेता था कोई शिकायत नहीं कर सकता था गेट पे शिकायत करता तो गेट वाले और पिटते फिर जयराम उनको और मारता एक दिन एक ओल्ड लेडी अायी ओ लेडी पहले होम में ही बच्चो को पड़ने का काम करती थी लेकिन उनका ट्रांसफर हो गया था लेकिन उनका फिर से नरेला होम में ट्रानफर हो गया था अगले दिन जो लोग स्कूल नहीं जाते थे उनको मैम ने बुलाया और गिनती बारह खड़ी ये सब पूछा जिसको अता था उसने बताया जिसको नहीं आता था उसको होम में ही ब्दाया जाएगा और जिसको आता है उसको बाहर भेजा जाएगा  मेरी पूछा मैंने बता मै पड़ने में तेज तो नहीं हा पर ठीक ठाक था मैम ने कहा अगले दो महीने तक मुझसे सीखोगे और उसके बाद स्कूल में नाम लिखा जाएगा बाहर जाने के नाम से सभी राजी हो गए अगले दिन मैम के पास मै पड़ने में तेज तो नहीं पर ठीक ठाक ही था मैम हमेशा अपने साथ इलेक्ट्रॉनिक वाला गेम जिसमें A से Z तक गेम होता है ओ लाती थी मै बार बार मैम से गेम मगता और खेलता।









 English translate/

At the time when our kutti was changed by its captain, its rule started at that time.  At that time, the worst beating was Shastri Kuti, his captain was Munna and his brother Jairam, Jairam had kept a hunter of electric wire, he used to beat the whole skin of children.  One used to peel, no one could complain, if the gate complained, the gates would beat and then Jayaram would kill them and one day an old lady Ayi O Lady used to work for the children in the first home but they were transferred but  He was again transferred to the Narela home. The next day, those who did not go to school, Mam called them and asked all who stood at twelve, who told him that he did not know.  Who will be sent in the home and whoever comes will be sent out, I asked, I am not quick to tell, but I was fine, Mam said, learn from me for the next two months and after that the name will be written in the school.  Everyone agreed with me, the next day, I was not quick to fall, but it was okay, Mam always brought an electronic game with games from A to Z.  He used to play and play games.






Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट