21/04/2020. P/34

हिन्दी/

नाजिश के कहने पर कुटी का एक लड़का मुझे कुटी का रूल समझने लगा कुटी का रूल कुछ इस प्रकार था सभी के पास 3 जोड़ी कपड़े , कहीं से फटे नहीं होने चाहिए मॉर्निंग में 5बजे उठना हैं अपने सामान का ध्यान रखना है किसी से लड़ाई नहीं करनी किसी स्टाफ को आंख उठाकर नहीं देखना है पहला and दूसरे कैप्टन कि हर बात मानना है, कुटी का ध्यान रखना है , कुटी की सफाई करनी है ,सबसे ख़तरनाक बात तो ये थी कि कोई एक गलती करेगा तो सबको ठुकाई पड़ेगी / कुटी का कोई भी एक लड़का गलती करेगा तो सभी पिटेगे वहा के स्टाफ में थे सुप्रीदेट ,कालिया सर काउंसिल, चौकीदार बाले भाई साहब , पापा जी सबसे ज्यादा खतरनाक उसके बाद राज सिंग भाईसाहब, गांधी जी केयर टेकर सबसे सरिफ व्यक्ति थे किसी भी बच्चे को नहीं मानते थे , रमेश भाईसाहब स्कूल ले जाने वाले थे । स्कूल होम /जेल से सवा किलोमीटर था और भागने का सबसे आसान था होम से कोई भाग भी नहीं सकता था क्योंकि जेल था चारो ओर से ऊंची दीवार ऊपर जली लगी थी आगन झा जली नहीं थी वहा से कोई चड नहीं सकता था फिर भी लडके कोसिस करते थे चादर को रस्सी बनाकर ऊपर फेकते फिर उससे पकड़ कर चड़ते थे
फिर दीवार कूद कर भाग जाओ भागने की घटना कभी कभी होती थी ।








English translate/

At the behest of the Nazis, a boy of the hut I started to understand the rule of the hut was like this: Everyone has 3 pairs of clothes, they should not be torn from somewhere, have to get up at 5 in the morning to take care of their belongings and do not fight with anyone.  No staff has to look at the eyes first and second Captain has to agree to everything, take care of the hut, clean the hut, the most dangerous thing was that someone will make a mistake.  Everyone will be blamed / If any one boy of the hut will make a mistake, then all of them will be there, in the staff, Supridet, Kalia Sir Council, Chowkidar Bale Bhai Sahab, Papa ji were the most dangerous, followed by Raj Sing Bhaishab, Gandhi ji the care taker was the most sariff person.  Did not consider any children, Ramesh Bhaisahab was about to go to school.  The school was a quarter of a kilometer from the home / jail and it was the easiest to escape, no one could run away from the house because the jail had a high wall lit up from all sides, Agan Jha was not burnt, there was no way he could still fight the boy.  Used to rope the sheet up and throw it and then grab it and climb.

 Then jump off the wall and run away. Occasionally there was an incident.





Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट