Flash back एडवेंचर

                          चिड़िया घर 


स्कूल मे हमारा एक ग्रुप था जो लगभग हर स्कूल में होता है जिनमे सामिल थे दीपक , संजय, मैं(शशिराज), दिलीप, सौरज, और हर स्कूल टूर पर साथ होते है। जू में भी हम साथ में थे हम ने पहली बार शेर देखा था जो भूत बड़ा था। टीवी में तो शेर बहुत छोटा सा दिखता था। रियल लाइफ में बहुत ही बड़ा और खतरनाक था। वह था तो लोहे के मजबूत पिजरे मे जिससे डरने वाली बात नही थी लेकिन शेर की एक गुर्राहट ने हम सबकी सासे अटका दिया। पहली बार शेर को इतने करीब से देखा था हम लोगों ने उसके बाद हम लोग सापो वाले घर में गए लेकिन वहा पर भी मरम्मत का काम चल रहा था। जिससे स्नेक घर बंद था। उसके बाद हम लोग चिड़ियों के एक घर में गए जहा तरह तरह के चिड़िया थी जो काफी रंग बिरंगी थी उसके बाद गुरिल्ला हाउस और उसके बाद सभी लोग छोटा हिरण देखने गए। चिड़िया घर में छोटे छोटे ट्रैक बने थे टूरिस्ट के लिए जिनपर बैटरी से चलने बाली छोटी रिक्शा चलती थीं जिनका किराया भी ज्यादा था। धीरे धीरे सभी छात्र वापस एग्जिट गेट पर और एक जगह एकत्रित हुए और गिनती की गई और सभी छात्र बस में बैठ गए और फ्रेशमैंट सभी छात्र को मिला जिसमे एक फ्रूटी, दो केले एक चिप्स का पैकेट था। सभी ने फ्रेशमेंट खाया और हम सभी लोग वापस आ गए।












                                                               Zoo

 We had a group in school which is in almost every school, in which Deepak, Sanjay, I (Shashiraj), Dileep, Sauraj, and every school tour together.  We were together in the zoo, we had seen a lion for the first time, which was a huge ghost.  The lion looked very small in the TV.  Was very big and dangerous in real life.  He was in a strong iron cage from which there was nothing to be afraid of, but a growl of a lion made us all gasp.  For the first time we had seen the lion so closely, after that we went to Sapoo's house, but repair work was going on there too.  Due to which the snake house was closed.  After that we went to a bird house where there were different types of birds which were very colorful, after that the guerrilla house and after that everyone went to see the little deer.  Small tracks were made in Chidiya Ghar for tourists, on which small battery-operated rickshaws used to ply, whose fare was also high.  Slowly all the students gathered back at the exit gate and gathered at one place and counting was done and all the students sat in the bus and freshmant was given to all the students which had one fruity, two bananas and a packet of chips.  Everyone ate refreshments and we all came back.


                          






<script async src="https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-1155469305860636"
     crossorigin="anonymous"></script>

Comments

Popular posts from this blog

लालकिला/ लाहौरी गेट

यादें/मेरी सबसे बुरी हालत

होम में भूत