चिड़िया घर में परवेश 10/03/2021. P124

                   चिड़िया घर में परवेश                         

///////

स्कूल से मैं ६ कक्षा से ११ कक्षा तक हर बार या यू कहे की हर साल टूर पर जाता था। एक बार मैं और मेरे दोस्त स्कूल की तरफ से टूर पर गए ये तो मुझे याद नहीं की किस क्लास से गए थे। उस दिन कुछ दोस्त जैसे पवन और दिलीप का आने का मन नहीं था लेकिन फिर भी आए। क्योंकि आप सभी लोग जानते है। की स्कूल के टूर का मजा ही कुछ और होता है हमारे दोस्तो में एक बीमार था। लेकिन उसको भी घर जाकर जबरन उठा कर तैयार होने तक रुके और फिर साथ आए जहां स्कूल बस खड़ी थी। सभी लोग दिए वक्त पर आ गए और बस मे बैठने के बाद गिनती हुई सभी स्टूडेंट्स की उसके बाद उसके बाद बस चल पड़ी रास्ते में सर से पूछने पर पता चला की इस बार का टूर चिड़िया घर जायेगा। दो घंटे बस में बैठने के बाद बोर से होने लगे थे। क्योंकि ट्रैफिक बहुत था उस दिन करीब २:५ घण्टे बाद हम लोग चिड़िया घर पहुंच गए और बस से उतर कर लाइन में खड़े हो गए फिर चिड़िया घर का मैनेजर आया और उसने कहा की स्कूल के बच्चो को अलाऊ नही है। क्योंकि वो अंदर जानवरो को परेशान करते है लेकिन तुम लोग बहुत अच्छे बच्चे हो और ऐसा नही करोगे। सभी लड़के एक स्वर में हां में जबाब दिया फिर हम सभी लड़के एंट्री गेट के पास पहुंचे और लाइन में लगकर अंदर जाने लगे टीचर ने कहा की सभी लोग एक साथ रहेंगे और मेरे पीछे पीछे आयेगे लेकिन हम लोग कहा सुनने वाले थे सर के हां में हां तो सिर्फ एंट्री तक था।

https://youtu.be/UgE14QgWcvU





English translate/
////////////////////////////
 From school, I used to go on tour every year from 9th grade to 11th or every time you say.  Once, my friend and I went on a tour on behalf of the school, I do not remember which class I went to.  That day some friends like Pawan and Dileep did not feel like coming but still came. 
https://youtu.be/UgE14QgWcvU  Because you all know.  The fun of a school tour is something else. One of our friends was ill.  But he too went home forcibly picked up and stayed till ready and then came along where the school bus was parked.  All the people came at the given time and after counting in the bus, all the students who were counted after that, after that, after asking the head on the way the bus started, it was known that this time the tour will go to the bird house.  After sitting in the bus for two hours, they started coming from the bore.  Because there was a lot of traffic that day, after about 2: 5 hours, we reached the bird house and got down from the bus and stood in the line, then the manager of the bird house came and said that the school children are not alone.  Because they bother animals inside, but you guys are very good children and will not do so.  All the boys answered in one voice yes, then all of us boys came near the entry gate and started going in line, the teacher said that all the people will stay together and follow me but we were about to hear Sir's yes.  Yes, it was only till the entry.
https://youtu.be/UgE14QgWcvU





<script async src="https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-1155469305860636"

     crossorigin="anonymous"></script>

 

Comments

Popular posts from this blog

लालकिला / travel vlog

मीना बाजार/छत्ता चौंक लालकिला

लालकिला/ लाहौरी गेट